बिज़नेस मनोरंजन

100 नंबर पर कॉल किया, कहा- मैं नशा नहीं करता, बस चिलम पीता हूं, घर छोड़ के आओ

मान लीजिए आप किसी अनजान जगह पर फंसे हैं. आपके पास पैसे भी नहीं हैं. कोई व्हीकल भी दिखाई नहीं दे रहा. और आपका मन है कि गाड़ी में बैठकर अपने घर जाएं. ऐसे में आप क्या करेंगे? घर परिवार वालों को फोन करोगे. या किसी दोस्त को. ज्यादा ही मुश्किल है तो दुश्मन को भी फोन कर दोगे. पर क्या एक बार भी ये दिमाग में आएगा कि पुलिस को फोन करते हैं. शायद नहीं. ये सोचकर कि कहीं मुश्किल से निकलने की जगह और मुश्किल में ना फंस जाएं. लेकिन कुछ लोग अपवाद होते हैं. और उनका कॉन्फिडेंस भी गजब ही होता है. ऐसी ही एक अपवाद का सामना यूपी पुलिस से हो गया. पहली बार पुलिस वालों को लगा होगा कि कहां फंस गए. फिर उन्होंने लिए मजे. वीडियो बनाया और वो हो गया है वायरल. वहीं से हमारे भी हाथ लग गया. पहले पूरा मामला बताते हैं.

हुआ ये कि एक भाईसाब को उझारी से गन्नौर जाना था. तो उन्होंने फोन किया पुलिस के इमरजेंसी 100 नंबर पर. पुलिस आई. पूछा क्या इमरजेंसी है. फिर जो जवाब उन्हें मिला उसे सुनकर सबसे सर पकड़ लिया. लगा कि भाई रेयर केस है. रिकॉर्ड किया जाना चाहिए. क्या पता फिर दर्शन हों ना हों. तो एक पुलिस वाले ने वीडियो बनाना शुरू किया. वीडियो में जो पता चल रहा है वो ये कि पुलिस को एक फोन आता है. सामने से बात कर रहा शख्स कहता है कि उसे गन्नौर जाना है. नशे में धुत्त है. घर जाने के पैसे नहीं हैं. कह रहा है- 100 नंबर पर कॉल करूंगा तो 100 नंबर की गाड़ी क्यों नहीं ले के जाएगी. भाईसाब का सरकारी सेवा में कोई भरोसा नहीं है. रोडवेज में जाने के पैसे नहीं थे. एक दम कॉन्फिडेंस से पुलिस को फोन किया और बोला छोड़ के आओ. इतने पर भी ख़त्म नहीं हुआ. पुलिस ने मनाया, कहा भैया इससे ही जाओगे क्या गन्नौर. कहने लगा- छोड़ के क्यों नहीं आओगे?

पुलिस को लगा कि भाई सस्ते नशे में भरोसा करता है. वीडियो बनाने वाले पुलिस वाले ने पूछा- नशे करते हो? इसपर उसने कहा कि नहीं नशा नहीं करता. बस चिलम पता हूं, बचपन से. चिलम को वो नशा मानता ही नहीं. आप कहते रहिए चिलम नशा है. नहीं है. बिलकुल नहीं है. ये वीडियो देखिए: